top of page
Search
  • Writer's picturePihu Mukherjee

संस्कृत के विश्व ब्रांड अम्बेसडर बने मेगास्टार आज़ाद


सांस्कृतिक पुनरुत्थान के प्रति कटिबद्ध ऐतिहासिक संस्था विश्व साहित्य परिषद् ने संस्कृत भारती से सम्मानित मेगास्टार आज़ाद को संस्कृत के विश्वव्यापी प्रचार-प्रसार-संवर्धन -उन्नयन के लिए ब्रांड एम्बेसडर नियुक्त किया है।


विश्व स्तर पर संस्कृत पुनरूत्थान के महानायक आज़ाद ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि विश्व साहित्य परिषद् ने उनके कन्धों पर जो जिम्मेदारी डाली है उसे वो सहर्ष स्वीकार करते हैं। इससे पहले विश्व साहित्य परिषद् ने फिल्मकार मेगास्टार आज़ाद के साथ कालजयी कृति अहम् ब्रह्मास्मि का निर्माण किया था। अहम् ब्रह्मास्मि देवभाषा संस्कृत में बनी विश्व इतिहास में पहली मुख्यधारा की फिल्म है।


आज़ाद के लेखन-निर्देशन और अभिनय से सजी अहम् ब्रह्मास्मि के भव्य प्रदर्शन और संस्कृत प्रेमियों के अभूतपूर्व प्रतिसाद ने मेगास्टार आज़ाद को एक सांस्कृतिक महानायक के रूप में स्थापित कर दिया। इसके साथ ही के संस्कृत जगत में विस्मृत देवभाषा को पुन: लोकभाषा बनाने के महान उद्देश्य को पूरा करने की मांग उठने लगी। भारत की सांस्कृतिक राजधानी काशी से लेकर देश की राजधानी नई दिल्ली तक अहम् ब्रह्मास्मि के प्रदर्शन को एक उत्सव के रूप में देखा गया। मेगास्टार आज़ाद की रचनात्मक प्रतिभा, संस्कृत और सनातन संस्कृति के प्रति उनका प्यार,आकर्षण और समर्पण को देखते हुए विश्व साहित्य परिषद् ने उन्हे ब्रांड एम्बेसडर बनाकर ऐतिहासिक काम किया है।

ध्यान देने योग्य बात ये है कि भोंसला मिलिट्री स्कूल के छात्र आज़ाद ने अपने आदर्श और भारत में सैन्य विद्यालय के संस्थापक धर्मवीर डॉ बालकृष्ण शिवराम मूंजे के १४७ वें जन्म महोत्सव के अवसर पर जयतु संस्कृतम और उत्तिष्ठ युद्धस्व भारत के नाम से अपनी दो संस्कृत फिल्मों की घोषणा की थी। दोनों फिल्मों की तैयारी युद्ध स्तर पर चल रही है । आशा करते हैं कि सनातनी राष्ट्रवादी फ़िल्मकार और अब विश्व के ब्रांड अम्बेसडर मेगास्टार आज़ाद के नेतृत्व में संस्कृत विश्व भाषा बनेगी जयतु संस्कृतम



1 view0 comments

コメント


bottom of page